बिजनेस

म्यूचुअल फंड में पैसा लगाने वालों के लिए राहत, आरबीआई ने की घोषणा

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने कहा है कि म्यूचुअल फंड के लिए विशेष लिक्विडिटी सुविधा (SLF-MF) के तहत घोषित नियामक लाभ सभी बैंकों को दिए जाएंगे, चाहें वो आरबीआई ने धन प्राप्त करें या योजना के तहत अपने संसाधनों का इस्तेमाल करें। बता दें म्यूचुअल फंड पर तरलता दबाव को कम करने के लिए, 27 अप्रैल 2020 को केंद्रीय बैंक ने 50,000 करोड़ रुपये की विशेष लिक्विडिटी सुविधा की घोषणा की थी।

आरबीआई ने कहा था कि वह सतर्क है और कोरोना वायरस के आर्थिक प्रभाव को कम करने और वित्तीय स्थिरता को बनाए रखने के लिए हर आवश्यक कदम उठाएगा। केंद्रीय बैंक कम दरों पर बैंकों को धन मुहैया कराएगा और बैंक विशेष रूप से म्यूचुअल फंडों की तरलता आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए धन का उपयोग कर सकेंगे। आरबीआई ने कहा कि एसएलएफ-एमएफ ऑन-टॉप और ओपन-एंडेड है। यह सुविधा 27 अप्रैल से शुरू हो चुकी है और 11 मई, 2020 तक रहेगी।

म्यूचुअल फंड से पैसा निकालने को लेकर निवेशकों की दिक्कतों को देखते हुए RBI ने म्यूचुअल फंड्स के लिए Special Liquidity Facility शुरू करने का ऐलान किया है। इस ऐलान के बाद अब फंड हाउस अपने बॉन्ड्स या अन्य पेपर बैंकों के पास रखकर पैसा ले सकते हैं, जिससे रिडम्पेशन के दबाव के कारण नकदी संकट कम होगा। बता दें फ्रैंकलिन टेम्पलटन द्वारा 6 डेट स्कीम बंद करने के बाद म्यूचुअल फंड में पैसा लगाने वालों के लिए बड़ा संकट खड़ा हो गया है।

मार्च में म्यूचुअल फंड इंडस्ट्री से 2.3 लाख करोड़ की निकासी

बता दें मार्च में म्यूचुअल फंड इंडस्ट्री से कुल 2.3 लाख करोड़ रुपये निकाला गया है। AMFI द्वारा हाल ही में जारी आंकड़ों के मुताबिक फरवरी में करीब 1,985 करोड़ रुपये की निकासी की गई थी। वहीं छोटी अवधि में पैसों की जरूरत पूरा करने के लिए कॉरपोरेट्स जिन लिक्विड फंड में पैसे रखते हैं, उसपर सबसे अधिक असर पड़ा है। मार्च में इन्होंने 1.1 लाख करोड़ रुपये निकाले हैं, जबकि फरवरी में 43,825 करोड़ रुपये की निकासी की गई थी

Related Articles

Back to top button